बिंदेश्वरी प्रसाद मंडल: पिछड़ों के मसीहा

आज बीपी मंडल के नाम से मशहूर बिंदेश्वरी प्रसाद मंडल की जन्म जयंती है , जिसके अवसर पर हम यह लेख लिखने का साहस जुटा पर है । बिंदेश्वरी प्रसाद मंडल वह नाम है जिसने भारत में पिछड़े वर्ग के लिए आरक्षण दिलवाने के लिए कार्य किया । वैसे तो भारतीय समाज में इनका योगदान अतुलनीय है परंतु बावजूद इसके उन्हें केवल पिछड़ों के मसीहा के रूप में जाना जाता है । आइए हम सब आज उनके जन्म जयंती के अवसर पर उन्हें याद करते हैं :- 

 परिचय :- 

बिंदेश्वरी प्रसाद मंडल और बिहार के सातवें मुख्यमंत्री वैसे तो किसी परिचय के मोहताज नहीं परंतु उन्हें जानने के लिए , समझने के लिए उनके बारे में जानना भी आवश्यक है। बिंदेश्वरी प्रसाद मंडल का जन्म 25 अगस्त 1918 को बनारस में हुआ था । उन्होंने अपने जीवन की प्रारंभिक शिक्षा गांव के ही प्राथमिक विद्यालय से प्राप्त किया इसके पश्चात उच्च शिक्षा के लिए पटना चले गए । अपनी शिक्षा को पूरी करने के बाद बिहार में ही कई क्षेत्रों में मजिस्ट्रेट के रूप में कार्य किया , तत्पश्चात समय की आवश्यकता को देखते हुए उन्होंने मजिस्ट्रेट के पद से इस्तीफा दे दिया एवं इसके बाद जीवन का एक बड़ा हिस्सा बिहार की राजनीति को एक नया आयाम प्रदान करते हुए पूरे भारत के पिछड़े समुदाय को अपनी रिपोर्ट के माध्यम से ओबीसी का आरक्षण दिलवाकर उन्हें मुख्यधारा से जोड़ने का कार्य । अंततः 13 अप्रैल 1982 को 63 वर्ष की अवस्था में इस मनस्वी का निधन हो गया।

राजनीतिक जीवन :-

मजिस्ट्रेट पद से त्याग देने के पश्चात वे राजनीतिक रूप से सक्रिय हुए और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सदस्य बनें और फरवरी 1968 में उन्हें बिहार के सातवें मुख्यमंत्री बनने का अवसर मिला परंतु वह मुख्यमंत्री के रूप में कुछ विशेष कर पाते उससे पहले ही 2 मार्च 1968 को उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना और केवल 31 दिन तक ही वे बिहार के मुख्यमंत्री पद को सुशोभित कर पाए । यद्यपि की उन्होंने मधेपुरा संसदीय क्षेत्र के सांसद के रूप में एक लंबे समय तक अपना योगदान दिया ।

पिछड़े वर्ग के उत्थान में उनका योगदान :- 

पिछड़े वर्ग के उत्थान में बिंदेश्वरी प्रसाद मंडल का योगदान उल्लेखनीय 1978 में जब देश में जनता पार्टी की सरकार थी तब उसी समय पिछड़ी जातियों के द्वारा नौकरियों में आरक्षण की मांग तेजी से उठ रही थी जिसे देखते हुए तत्कालीन प्रधानमंत्री ने बिंदेश्वरी प्रसाद मंडल अर्थात बीपी मंडल की अध्यक्षता में पिछड़ा वर्ग आयोग का गठन किया जिसे मंडल कमीशन के नाम से भी जाना जाता है । बी पी मंडल जी ने अपनी रिपोर्ट सरकार के समक्ष 1980 में प्रस्तुत किया जिसके आधार पर भारत की अन्य पिछड़ी जातियों ( ओबीसी कटेगी ) को सरकारी नौकरियों में 27% आरक्षण दिए जाने की सिफारिश की गई

Enjoyed this article? Stay informed by joining our newsletter!

Comments
Avinash Pratap Deo - Sep 1, 2022, 10:43 AM - Add Reply

Good work.

You must be logged in to post a comment.

You must be logged in to post a comment.

About Author

I have completed my post graduation in modern history from BHU Varanasi. I have qualified exam of ugc net in History.