पृथ्वी से चंद्रमा की दूरी कितनी है

नमस्कार दोस्तों, क्या आप पृथ्वी से चंद्रमा की दूरी की जानकारी जानना चाहते हैं तो इसके लिए आपको यह आर्टिकल पूरा पढ़ना होगा। इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे की पृथ्वी से चंद्रमा की दूरी कितनी है? चलिए पढ़ना शुरू करते हैं। 

पृथ्वी से चंद्रमा की दूरी कितनी है

रात के समय आकाश में जो खगोलीय पिंड सबसे ज्यादा चमकदार और बड़ा दिखाई देता है वह चंद्रमा हैं। चंद्रमा पृथ्वी का एकमात्र प्राकृतिक उपग्रह है। यह सौरमंडल का पांचवा सबसे बड़ा उपग्रह है। इसे जीवाश्म ग्रह भी कहा जाता है। 

चन्द्रमा पृथ्वी की धुरी की डाँवाडोल गति को नियंत्रित करके इसकी जलवायु को अपेक्षाकृत स्थिर बनाता है, जिससे पृथ्वी निरंतर एक जीवंत ग्रह बनी रहती है। पूरे सौर-परिवार में चंद्रमा पृथ्वी के सबसे समीप है।

पृथ्वी की तरह चंद्रमा की उत्पत्ति से संबंधित मत भी प्रस्तुत किए गए हैं। 1938 में सर जॉर्ज डार्विन ने बताया कि प्रारंभ में पृथ्वी और चंद्रमा तेजी से घूमते एक ही पिंड थे। यह पूरा पिंड डंबल की आकृति में परिवर्तित हुआ और टूट गया। उनके अनुसार चंद्रमा का निर्माण उसी पदार्थ से हुआ है जहां आज प्रशांत महासागर एक गर्त के रूप में मौजूद है।

ऐसा विश्वास किया जाता है कि पृथ्वी के उपग्रह के रूप में चंद्रमा की उत्पत्ति एक बड़े टकराव का नतीजा है। ऐसा मानना है कि पृथ्वी बनने के कुछ समय बाद ही मंगल ग्रह की 1 से 3 गुना बड़े आकार का पिंड पृथ्वी से टकराया। 

इस टकराव से पृथ्वी का एक हिस्सा टूटकर अंतरिक्ष में बिखर गया और घूमने लगा, जिससे चंद्रमा बना। यह घटना लगभग 4.44 अरब वर्ष पहले हुई।

चंद्रमा की पृथ्वी से औसत दूरी - 3,84,400 किलोमीटर है।

चंद्रमा की पृथ्वी से निम्नतम दूरी - 3,63,104 किलोमीटर तथा पृथ्वी से अधिकतम दूरी 4,06,696 किलोमीटर है। 

चंद्रमा का द्रव्यमान तथा घनत्व पृथ्वी की तुलना में कम है। इसका द्रव्यमान 8.10×10^19 टन तथा घनत्व 3.34 ग्राम/घन सेंटीमीटर है। इसका व्यास 3,476 किलोमीटर है।

उम्मीद हैं आपको पृथ्वी से चंद्रमा की दूरी कितनी है की जानकारी पसंद आयी होगी। यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो तो दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें धन्यवाद।

Enjoyed this article? Stay informed by joining our newsletter!

Comments

You must be logged in to post a comment.

About Author

easymathstricks.com एक गणित विषय की वेबसाइट हैं जिसमें गणित विषय से संबंधित समस्त अध्याय के प्रश्नों को हल सहित समझाया जाता हैं।