प्रधानमंत्री आवास योजना क्या है इसके प्रकार, उद्देश्य और विशेषताएँ

नमस्कार दोस्तों, यदि आप प्रधानमंत्री आवास योजना क्या हैं और कैसे काम करता हैं इसकी समस्त जानकारी जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़िए।

प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत घर खरीदने के लिए होम लोन लेने पर सरकार द्वारा ब्याज पर 2.67 लाख रुपए की सब्सिडी प्रदान की जाती है। चलिए प्रधानमंत्री आवास योजना की समस्त जानकारी को पढ़ते और समझते हैं।

प्रधानमंत्री आवास योजना क्या है

प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY) भारत सरकार द्वारा चलाई जाने वाली एक योजना है जिसका उद्देश्य शहर में रहने वाले गरीबों को आवास उपलब्ध कराना है। 

इस योजना को पहली बार 1 जून 2015 को लॉन्च किया गया था। यह योजना 6.50% प्रति वर्ष के ब्याज दर से शुरू होती है और इसका लाभ 20 साल तक के लिए उठाया जा सकता है। 

प्रधानमंत्री आवास योजना में ऋण के लिए योग्यता

सरकार PMAY लाभार्थियों की पहचान करने के लिए और उनको चुनने के लिए 2011 की सामाजिक आर्थिक और जाति जनगणना (SECC 2011) का उपयोग करेगी। 

ग्रामीण आवास योजना के अन्तर्गत सूची बनाने से पहले हितग्राहियों ग्राम पंचायतों के साथ साथ तहसील दार द्वारा विचार किया जायेगा। इसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि उन्ही लोगों को यह सहायता प्राप्त हो जिनको इसकी आवश्यकता हो।

पीएम आवास योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें?

इस योजना के लिए आवेदन करने के लिए आप प्रधानमंत्री आवास योजना के आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से आवेदन कर सकते हैं।

आवेदन की प्रक्रिया बहुत आसान होती है। इसके लिए बस आपको अपने आधार नंबर की जरूरत होती हैं। उसके बाद आप फॉर्म भर सकते हैं और जमा कर सकते हैं।

PMAY आवेदन के स्थिति की जांच कैसे करें

अपने PMAY आवेदन की स्थिति की जांच करने के लिए, आप प्रधान मंत्री आवास योजना के आधिकारिक वेबसाइट https://pmaymis.gov.in पर लॉग इन कर सकते हैं। 

उसके बाद आप ट्रैकिंग ऑप्शन को चुन कर, स्क्रीन पर दिखाए जाने वाले निर्देशों का पालन कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थी

PMAY योजना के लाभार्थियों को नीचे दी गई सारणी के अनुसार समझा जा सकता हैं। 

लाभार्थी वार्षिक आय
मध्यम आय वर्ग I (MIG I)
6 लाख से 12 लाख
मध्यम आय वर्ग I (MIG II)
12 लाख से 18 लाख
निम्न आय वर्ग (LIG)
3 लाख से 6 लाख
आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (EWS) 3 लाख तक

इसके अलावा अनुसूचित जाति जनजाति और OBC वर्ग के लोग और EWS और LIG वर्ग की महिलाएं भी प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए आवेदन कर सकती हैं।

प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों की पहचान और चुनाव

प्रधानमंत्री आवास योजना मुख्य रूप से शहरो में रहने वाले गरीब लोगों की आवास आवश्यकताओं को पूरा करती है। यह योजना उन लोगों की आवश्यकताओं को पूरा करती हैं जो बुनियादी ढांचे, खराब पानी की सुविधाओं के साथ कच्चे घर जैसे झोपड़ी में निवास करते हैं।

PMAY-U में मुख्य रूप से मध्यम आय ग्रुप (MIG), निम्न-आय ग्रुप (LIG) और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (EWS) के लोग शामिल हैं।

LIG वर्ग के लाभार्थी इस योजना के तहत केवल क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी योजना (CLSS) के योग्य हैं। इस योजना के अनुसार LIG या EWS लाभार्थी के पहचान के रूप में आवेदक को Authorities को आय प्रमाण के रूप में एक शपथ पत्र (Affidavit) जमा करना होगा।

प्रधानमंत्री आवास योजना में ब्याज सब्सिडी कैसे प्राप्त करें

  • होम लोन के लिए किसी भी लोन देने वाले संस्थान से आवेदन करें।
  • ऋण देने वाली संस्था आपके आवेदन की जांच करेगी और यदि आप पात्र हैं तो आपका आवेदन केंद्रीय नोडल एजेंसी को भेजा जाएगा।
  • वेरिफिकेशन के बाद यदि आपका आवेदन स्वीकार कर लिया जाता है और कोई गलती नहीं पाई जाती हैं, तो केंद्रीय नोडल एजेंसी ऋण देने वाली संस्था को सब्सिडी देंगी।
  • यह राशि उधार देने वाली संस्था आपके खाते में जमा कर देगी।

प्रधानमंत्री आवास योजना के प्रकार

प्रधानमंत्री आवास योजना को क्षेत्र के आधार पर दो भागों में बांटा गया हैं। 

1. प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण :- प्रधान मंत्री आवास योजना ग्रामीण (PMAY-G) को पहले इंदिरा आवास योजना के नाम से जाना जाता था और 2016 में इसे PMAY-G नाम दिया गया। 

इस योजना का उद्देश्य भारत के ग्रामीण इलाकों (चंडीगढ़ और दिल्ली को छोड़कर) में लाभार्थियों को फायदेमंद और आसान आवास उपलब्ध कराना है।

इस योजना के अनुसार भारत सरकार और राज्य सरकार मैदानी क्षेत्र में 60:40 आवास और उत्तर-पूर्वी एवम पहाड़ी क्षेत्रों में 90:10 के अनुपात में आवास उपलब्ध कराती हैं।

2. प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी :- प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी (PMAY-U), जैसा कि नाम से पता चल रहा हैं, इस योजना का उद्देश्य भारत में शहरी क्षेत्रों में आवास उपलब्ध कराना है। 

वर्तमान में 4,331 कस्बों और शहरों को इस योजना के तहत रखा गया है। इस योजना को तीन अलग-अलग चरणों के तहत पूरा किया जा रहा हैं। 

चरण 1. भारत सरकार ने अप्रैल 2015 से मार्च 2017 तक देश के अलग-अलग राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 100 शहरों को कवर करने का लक्ष्य रखा है।

चरण 2. सरकार ने अप्रैल 2017 से मार्च 2019 तक देश के अलग अलग राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 200 और शहरों को कवर करने का लक्ष्य रखा है।

चरण 3. सरकार ने चरण 1 और चरण 2 के दौरान छोड़े गए शहरों को मार्च 2022 के अंत तक कवर करने का लक्ष्य रखा है।

प्रधानमंत्री आवास योजना का उद्देश्य 

इस योजना का पहला उद्देश्य शहर में रहने वाले गरीबों और समाज के कमजोर वर्गों को EMI के माध्यम से सही ब्याज दर पर घर खरीदने की प्रक्रिया को सरल बनाना है। इस योजना में ब्याज दर अन्य ब्याज दरों की तुलना में बहुत कम है।

प्रधानमंत्री आवास योजना की विशेषताएँ 

  • प्रधानमंत्री आवास योजना 6.50% प्रति वर्ष ब्याज दर से शुरू होती है और इस योजना का लाभ 20 वर्ष तक उठाया जा सकता हैं।
  • इस योजना के तहत घर बनाने के लिए टिकाऊ और पर्यावरण के अनुकूल टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जाएगा।
  • इस योजना के कार्यान्वयन के लिए देश के सभी शहरी क्षेत्रों को शामिल किया गया है जिसमें 4041 कस्बों को सम्मिलित किया गया है। इसमें प्रथम श्रेणी के 500 शहरों को प्रथम प्राथमिकता दी गई है। यह प्रक्रिया 3 चरणों में पूरी की जाएगी।
  • इस आवास योजना का क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी भारत के सभी वैधानिक शहरों में पहले चरण से ही लागू हो जाता है।

PMAY कस्टमर केयर हेल्पलाइन नंबर

आवेदन प्रक्रिया, ब्याज दर और किसी अन्य योजना से संबंधित किसी भी प्रश्न का जवाब पाने के लिए आप नीचे दिए गए ग्राहक टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं।

1800-11-6163 (शहरी, HUDCO)

1800-11-3388 (शहरी, NHB)

1800-11-3377 (शहरी, NHB)

1800-11-6446 (ग्रामीण)

उम्मीद हैं आपको प्रधानमंत्री आवास योजना की जानकारी पसंद आयी होगीं। यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

Enjoyed this article? Stay informed by joining our newsletter!

Comments

You must be logged in to post a comment.

About Author

easymathstricks.com एक गणित विषय की वेबसाइट हैं जिसमें गणित विषय से संबंधित समस्त अध्याय के प्रश्नों को हल सहित समझाया जाता हैं।